आज के समय में हर किसी के पास स्मार्टफोन है और हर कोई स्मार्टफोन के अलग-अलग फीचर्स का इस्तेमाल करता है। बात अगर टेक्नोलॉजी की की जाए तो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से भी ज्यादा लोग गूगल ईमेल के जीमेल
का इस्तेमाल करते हैं।

Gmail एक प्रोफेशनल कामों के लिए इस्तेमाल किए जाने वाला सबसे बड़ा प्लेटफॉर्म है। चाहे किसी को अपनी नौकरी के लिए अप्लाई करना हो या फिर किसी को नौकरी प्राप्त होने के बाद कंपनी की तरफ से कोई ऑफर लेटर दिया जाना हो। इन सब में सबसे ज्यादा इस्तेमाल Gmail का किया जाता है। इतना ही नहीं प्रोफेशनल कंपनियां हो या छोटी बड़ी फर्म हर किसी के काम में Gmail का यूज जरूर होता है।

अपने भी जीवन में कभी ना कभी Gmail का इस्तेमाल किया होगा, या तो आपको कहीं से मेल आया होगा या फिर आपने मेल किसी को भेजा होगा। कहने का तात्पर्य है कि आपने Gmail का इस्तेमाल जरूर किया होगा। लेकिन आपने कभी Gmail में उसके अंदर मौजूद अलग-अलग ऑप्शंस पर नजर डाली है? शायद आपने ध्यान नहीं दिया होगा। लेकिन आज के समय में भी कई लोगों को Gmail के अंदर मौजूद कई फीचर्स के बारे में पूरी जानकारी नहीं है।

उन्हें नहीं पता कि Gmail पर दिए गए इन फीचर्स का किस तरह से इस्तेमाल किया जाता है। अगर आप भी अक्सर Gmail का इस्तेमाल करते हैं तो यह इंफॉर्मेशन आपके बहुत काम आने वाली है।

ये भी पढ़ें- Airtel ने पेश किए अलग–अलग प्लान, इन सस्ते दामों में ग्राहकों को मिलेगा रोजाना 1.5GB डेटा

आपने कभी मेल का इस्तेमाल करते हुए या फिर उस पर उसपर टाइप करते हुए Cc और Bcc का ऑप्शन नोटिस किया है?

यह दोनों ऑप्शन आपको Gmail के रिसीवर के कॉलम में नजर आ जाएंगे। जब भी आप इनको देखते होगे तो आपके मन में एक सवाल जरूर आता होगा कि आखिर यह ऑप्शन किस काम आते हैं? इसको कैसे इस्तेमाल किया जाता है? तो आपके इन सारे सवालों के जवाब हम आपको अपने इस आर्टिकल में दे देंगे।

सबसे पहले आपको बताते हैं कि Mail में सीसी का मतलब क्या होता है, दरअसल CC की फूल फॉर्म कार्बन कॉपी है। जब भी कोई मेल के जरिए एक दूसरे के कॉन्टैक्ट में आता है या बात चीत करता है, तो cc की उसमें बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका होती है। जब दो लोग आपस में बार करते हैं तो उसका गवाह CC बनता है। अगर गलती से किसी का मेल डिलीट हो जाए तो मेल के प्रूफ के रूप में भी सीसी रिसिवर मदद करता है।

वहीं बात करें Bcc की करें तो Mail में सीसी के अलावा, पास Bcc का भी ऑप्शन होता है। बता दें कि Bcc की फुल फॉर्म ब्लाइंड कार्बर कॉपी है। Cc की तरह ही Bcc कॉलम में रिसीवर्स को जोड़ता है और उनकी प्रोफेशनल बातचीत का हिस्सा बनता है।

Latest Post-

Ritesh Singh

रीतेश सिंह को मीडिया क्षेत्र में लगभग 12 साल का अनुभव प्राप्त है। HCL जैसे मल्टीनेशनल कंपनी से करियर की शुरुआत करने के बाद मीडिया क्षेत्र के दिग्गज कंपनियों (Gadgets 360, Ajtak) के साथ टेक बीट्स पर काम करने का अनुभव मिला। अब करीब 2 साल से टेक नगरी वेबसाइट पोर्टल में अपनी सेवा दे रहे हैं। रितेश का मकसद टेक्नोलॉजी और गैजेट्स से जुडी लेटेस्ट और बेहतरीन स्टोरी को लोगों तक पहुंचाना है।